Friday, 25 January 2013

ऐसे नहीं ऐसे...


बचपन में मां दादी नानी अक्सर हमें टोका करती थी..ठीक से बैठों क्या बूढ़ों की तरह बैठते हो कूबड़ निकल आएंगें…पैर क्यों घसीट कर चलते हो…लोग सोचेंगे पैर में कोई दिक्कत है…घोड़े की तरह हिनहिनाया ना करो..ठीक से खड़े रहो…ऐसे हकलाकर में में क्यों करते हो…क्या दांत की बत्तीसी दिखाते हो..वगैरह वगैरह …तब उनकी ऐसी बाते कलेजे में तीर की तरह चुभती थी…और बुरी लगती थी… कभी-कभी इतनी ज्यादा बुरी लगती थी कि हम पलट कर जवाब भी दे देते थे…कि हम ऐसे ही रहेंगे,करेंगे क्यों टोका करते हैं आप लोग…घर में अक्सर आते जाते डर बना रहता था कि किसी बात को लेकर फिर कोई टोक ना दे कि ऐसे खाओ..वैसे चलो
लेकिन हमनें कभी दादी-नानी के ऐसी नसीहतों को जिंदगी में नहीं उतारा..और हमेशा अपनी मनमानी करते हुए इन छोटी छोटी और गंदी आदतों को अपनी जिदगी में इस कदर शामिल कर लिए बड़े होनें के बाद भी ये हमेशा से हमारी आदतों का हिस्सा रह गयी..
लेकिन हम जब समाज में उठने बैठनें और लोगों से मिलने लगे तब पता चला कि दादी नानी क्यों टोका करती थी…कि ठीक से बैठो ढ़ंग से खाओ..और जितना गुस्सा कभी उनके टोका-टोकी पर आया करता था..उससे ज्यादा अब खुद पर आनें लगा कि इतने बड़े हो गए और हमें ये भी नहीं पता कि लोगों के बीच कैसे उठा बैठा और बोला जाय……मैगी चाऊमीन जैसी चीजें हम हमेशा दाल-भात की तरह ही खाते रह गए…और कभी दूसरों के टोकनें पर लज्जा का अनुभव हुआ… अन्त में हजारों रूपए खर्च करके हम पर्सनालिटी डेवलपमेंट का क्लास लेते हैं और अच्छा व्यक्तित्व बनानें का गुर सीखते हैं…पैसे खर्च कर के सीखे गए इस व्यक्तित्व का फायदा यह होता है कि हम इंटरव्यू में भी सलीके से खड़े रहने का तरकीब जान जाते है…आपने देखा और महसूस किया होगा..कि सदियों से ही मोहब्बत भी व्यक्तित्व को देख कर होती आ रही है…किसकी कौन सी अदा देखकर कब प्यार हो जाए कुछ कहा नहीं जा सकता…किसी की गजब वाली हंसी फिदा कर जाती है तो किसी की लुभावनी बातचीत या अच्छी चालढाल…
मेरी स्नातक स्तर की रुम मेट दिन भर खखारती रहती है..और चाय सुड़क-सुड़क कर तेज से खिंचती है…उसकी ये आदते बिल्कुल नागवार गुजरती है…मैंने उसे एक बार टोका कि यार कम से कम चाय ढ़ंग से पीना सीख लो…घर में तो कैसे भी चल जाता है..बाहर में लोगों के बीच यह सुड़कना अच्छा नहीं लगेगा…इतना बोलते ही वह चिढ़ गई जैसे मैनें उसकी आजादी छीनने की जुर्रत कर दी हो…और बोली मैं ऐसे ही करुंगी..जो मर्जी कर लो…तब मन ही मन हंसी आयी की हम भी अपनें बड़ों की बातों पर ऐसे ही कभी कभी जवाब दे दिया करते थे..लेकिन बात सैकड़ो की होती है नानी-दादी की..

Saturday, 19 January 2013

तू तो अमीर है दीदी....


अपनी तो भाषा ऐसी ही है दीदी …तू जब हम लोग के साथ रहेगी तो तू भी हमारी तरह ही बोलेगी ….जब मैंनें उन तीन छोटी लड़कियों से पूछा कि तुम लोग जो बोलती हो क्या तुम्हारे मां-बाप का सीखाया होता है…तब उसनें ऐसा जवाब दिया….चेहरे पर चंचलता उधम-कूद मचाते हुए हर आनें जाने वाले से बस एक ही शब्द बोलती….    
उन तीनों की उम्र छ-सात साल के आसपास थी उसमें से एक लड़की नें सात महिनें के बच्चे  को गोंद में फंसायी थी…और भीख मांग रही थी…मैंने उनसे ऐसा सवाल तब किया जब मैंने देखा कि उसके गोद में लटका एक साल का बच्चा भी ठीक वैसे ही हाथ फैला रहा है और कह रहा है एक दे दे दे दे…एक साल का वह बच्चा ना जानें मम्मी-पापा कहना जानता था या नहीं लेकिन भीख मांगनें की तरकीब पता थी उसे……इन बच्चों के शरीर से अजीब तरह की महक आ रही थी…मैंने पूछा आज तो तुम लोग मेले में आकर भीख मांग रही हो…नहा –धो के आयी हो…उनमें से दुसरी लड़की टप्प से बोली कैसा मेला दीदी…हम तो खुश हो जाते हैं जब हमें भीड़ देखती है यह सोचकर कि आज ज्यादा पैसा मिलेगा…और हमको सनिमा थोड़े ही जाना है कि रोज नहाए…एक सहेली नें मजाक में कहा कि यार मुझे भी एक रुपया दे दो मैं भी तो भीख ही मांग रही हूं…उनमें से एक नें मेरी सहेली के हाथ पर एक रुपए रख कर कहा काहैं मजाक करती है दीदी..तू तो अमीर है…देख गरीब तो हम हैं… इतना कह कर ना जाने क्यों खिलखिला कर हंसी..उसकी हंसी उस वक्त ऐसी लगी जैसे उसने खड़े-खड़े हमारी बातों पर हमें तमाचा जड़ दिया हो…. इतनी छोटी सी लड़की के मुंह से ऐसी बातें सुनकर बार बार मेरे दिमाग में आ रहा था किसनें  सिखाया इनको ऐसा बोलना कहना…लेकिन जवाब तो मुझे पहले ही मिल गया था..हमरी भाषा ही ऐसी है दीदी..तू भी ऐसा ही बोलेगी जब हमारे साथ रहेगी….तीनों नें भीख में मिले पैसे जोड़े और मुझसे बोली ले दीदी ये दस रुपये और हम लोगों की एक फोटो खींच ले… कल इसी जगह पर ला कर दे देना…मैं क्या खीचती उनकी फोटो..उनकी बात उनकी फोटो तो खुद मेरे जेहन में जम गयी थी..

Thursday, 17 January 2013

बन कर क्यों नहीं आयी...


काले रंग के बुर्के में ढ़की थी वह..किसी बुत्त की तरह बैठी थी लेकिन उसकी नजरें हर तरफ दौड़ रही थीं..वह खुद को ऐसे लिबाज में लिपटा हुआ महसूस कर रही थी जो रोके हुआ था…ताजे हवा पानी को…उसकी आंखे किसी झरोखे की आड़ से ही चीजों को देख रही थी…शायद वह उतार फेंकना चाहती थी उस नकाब को जिससे अभी तक हम ये नहीं जान पाए थे कि बुर्के के अंदर का चेहरा कौन और कैसा है…..जब वह हम कुछ लोगों को गपियाते देखी तो उससे रहा नहीं गया..उसने आस-पास देखा औऱ नकाब उतार कर एक तरफ रख दी….
माशाअल्लाह..क्या लग रही थी वह..जैसे वह घर से सालों बाद बाहर निकली हो…बिल्कुल पीला चेहरा…. काले बुर्के नें उसके पीले चेहरे की खुबसूरती को और भी बढा दिया था… अब समझ में आया था हमारी उसके नकाब का राज…
नकाब उतारते ही वह बोली देखिए आप लोगों में से कोई मुझे आंटी ना बोलिएगा…मेरी शादी जरुर हो गई है लेकिन मैं आप लोगों कि उमर की या उससे भी छोटी हूं…..यह बातें उसनें बिना किसी के कुछ कहे और बेबात बोली…. उसकी ऐसी बातें सुनकर उससे बात करने का मन हो रहा था….औऱ  कुछ देर में बातें शुरु भी हो गई……..वह बिल्कुल देश-दुनिया के बातों से बेखबर थी..उसनें अपनें अरमानों का गला घोंटा था… उसे तो यही बताया गया था जब पति कि तरक्की होती है…जब अपना बच्चा स्वस्थ रहे औऱ ससुराल वाले खुश रहें इसी में औरत की सबसे बड़ी खुशी होती है..यही औरत का संसार है…
इस बार जब मायके जाकर अपनी अम्मी के आगे वह रो रही थी तब अम्मी नें ऐसा कहा था ..शायद इसलिए उसे दूसरे किसी संसार से मतलब नहीं था….लेकिन बार-बार उसके मन में यही टीस उठती कि वह बारहवीं के बाद पढ़ नहीं पायी..अम्मी  ने कहा था अपनें असली घर जाना तो जो मन में आए वो करना…अट्टारह साल की उम्र में उसे उसके असली घर भेज दिया गया…पति के लाड़-दुलार से जब फुर्सत निकाल कर उसनें पढ़ कर कुछ करनें अपनें पैरों पर खड़े होनें की बात कही तो पति ने दो टूक जवाब देते हुए यह कह दिया कि अपनें घर से ही अपनें पैरों पर खड़ा होकर क्यों नहीं आयी…..वह रोनें लगी यह याद कर कि अम्मी नें यह कहकर भेजा था कि असली घर में ख्वाहिसें पूरी होती है…लेकिन यहां तो……….वह अब तक यह नहीं समझ पायी थी कि कौन सा घर उसका है..जिसे छोड़कर आयी है वो…या जिसमें रह रही है वह……
बीस साल की उम्र पूरी करते बच्ची की तरह दिखने वाली एक लड़की की गोद में खुद एक बच्ची आ गई…जो संपूर्ण औरत बन गई थी…लेकिन अभी भी वह लड़ रही थी अपनें ससुराल वालों से कि उसे पढ़ाया जाये…पहले तो वह इसलिए पढ़ना चाहती थी ताकि कुछ कर सके…लेकिन अब वह बेटी के लिए पढ़ना चाहती है ताकि कल को उसकी बेटी को उसका पति ये जवाब ना दे कि अपनें घर से ही अपनें पैरों पर खड़ा होकर क्यों नहीं आयी…

 (एक लड़की नाजिया की दास्तां…जैसा उसने बताया)

Sunday, 6 January 2013

मानसिकता की जय हो......


दिल्ली में एक लड़की के साथ  बलात्कार हुआ…पुरा देश विरोध प्रदर्शन में सड़कों पर निकला…लोगों नें किस्म किस्म के अपनें विचार परोसे…ये होना चाहिए..ये नहीं होना चाहिए…सरकार जिम्मेदार है… बलात्कार की सजा फांसी होनी चाहिए….लोगों को महिलाओं के प्रति अपनी मानसिकता बदलनी होगी…ब्ला ब्ला ब्ला….
सबनें ये सोचा मानसिकता बदलने को लेकर चिल्लाहट मचाएंगे तो मानसिकता बदल जाएगी…एक ही दिन में पूरे देश की ....महिलाओं के प्रति गंदी मानसिकता सिर्फ हम और आप बदलकर ये नही गा सकते कि हम चले तो हिन्दुस्तान चले…मानसिकता तो उनकी भी बदलनी चाहिए जो आपके घर में मजदूर है..मानसिकता उनकी भी बदलनी चाहिए जो हमारे भाई और बाप हैं..और हमारे घर में बर्तन माजने वाली नौकरानी जिनसे असुरक्षा महसूस करती है….
मानसिकता सिर्फ मध्यमवर्गीय परिवारों का अपनी लड़कियों को शिक्षा दिलाने से नहीं बदलेगी…हमें हर वर्ग और तबके के बारे में सोचना होगा…जिस तरह से हम सरकार से ये मांग कर रहे हैं कि बलात्कार की सजा मौत होनी चाहिए….उसी तरह से हमें अपनें उन भाईयों बहनों और मांओ के लिए भी एक मांग करनी पड़ेगी जो गरीब हैं जिनकी जिंदगी का मालिक कोई और है...जिनका जीवन बिना पढ़े लिखे ही गुजर जाता है........... कि इन लोगों को भी शिक्षित करनें में आगे बढ़ानें मे सरकार कोई कदम उठाए….आज भी हमारे घर में बर्तन मांजने खाना पकाने वाली महिलाओं की बेटियां भी बड़ी होकर वही काम करेंगी…हमारे दिये हुए पुराने फटे कपड़ों से ही अपना तन ढ़कती है….
शहरों गांवों में चलनें वाले बस आटो पर गरीबों के बच्चे कंडक्टरी करते हैं…इस दौरान वे दारु पीना सीखते हैं फूहड़ और भद्दे भोजपुरी गानें सुनकर जवान होते हैं…अपनें मालिकों की अश्लील बातें सुनते हैं…अश्लील काम को देखते है…फिर इनको इतना तजुर्बा हासिल हो जाता है कि…बलात्कार जैसी घटना को अंजाम देना इनके बाएं हाथ का खेल हो जाता है….और मध्यमवर्गीय परिवारों के बच्चे कैसे उत्तेजित होते हैं ये हर वो मध्यमवर्गीय परिवार जानता है जो सिर्फ मध्यमवर्गीय परिवार की लड़की का बलात्कार होनें पर मामले को हवा देता हैं…वरना रोज ही दलितों की बेटियां किसी ना किसी मालिक के हवस का शिकार बनती हैं…..पहले के समय में किसी का बेटा पुलिस दरोगा बन जाता तो बेटी का बाप अपनी बेटी के लिए वर के रुप में उसे लालटेन लेकर खोजता था……अब पुलिस दरोगा जिस तरह से बाप की बेटी को देख रहे हैं…पूरा देश जानता हैं
दिल्ली में लड़की के साथ बलात्कार करनें वाले बलात्कारी झोपड़-पट्टियों में रहनें वाले थे…अनपढ़ और देश दुनिया के समाचारों से कोसों दूर रहनें वाले….बलात्कार के दूसरे दिन दिल्ली में ही फिर किसी महिला के साथ ऐसे ही कुछ लोगों ने बलात्कार किया…हम कैसे इनकी मानसिकता बदलेंगे….जो अपनी दुनिया के ख्वाब केवल टीवी देखकर पूरा करते हैं….सुनी-सुनाई खबरों से दुनिया की तस्वीर गढ़ते है और सड़क पर साक्षात लड़की देखकर उसके कपड़े उतारनें की सोचते हैं……देखा होगा आपनें भी जब एक नाबालिक लड़का सड़क पर रिक्शा खींचता है तो कैसे लड़कियों को देखता है….एक लड़का जब होटल में खाना परोसता है तो कैसे बड़े लोगों के बीच उसकी जवानी से पहले ही उसे बड़ा बना दिया जाता है…और कल को यही लड़का एक घटना को अंजाम देता है…

और हम जो अपनें को मध्यमवर्गीय मानते हैं..जिसे ये नहीं दिखाई दिया कि सोनी सोरी के साथ क्या हुआ…हरियाणा में कितनी दलित बेटियां अपनी अस्मत लुटाई…..नौकरानी के साथ होने वाले बलात्कार पर सिर्फ यह कहकर पल्ला झाड़ लेते हैं कि हम समझ सकते हैं…..जाति धर्म का भेदभाव रखते हैं....सच में कभी नहीं ये समझ पाएंगे कि बेटी की इज्जत इज्जत होती है चाहे वो हिन्दू हो मुस्लिम हो दलित हो या कोई और हो...और हर एक बलात्कार के बाद खुद चिल्लाएंगे मानसिकता बदलो....बेटी बचाओ..ब्ला ब्ला...

बलात्कार की बतकही...

बनारस की एक सहेली के घर से बुलावा था। मैं 31 दिसम्बर को बनारस जाने के लिए प्रयाग स्टेशन पर ट्रेन का इंतजार कर रही थी…ट्रेन लेट थी…मैं वहीं प्लेटफार्म पर बैठ गई..तभी कुछ लड़के दौड़ते-हांफते हुए आये…और स्टेशन पर खड़े होकर एक दूसरे को डांटने लगे…

सुनने में बात पूरी और अच्छे से समझ में आ रही थी…कि वे लोग किसी लड़की को छेड़े थे और पुलिस उन्हें दौड़ायी थी….उनमें से एक लड़का जोर से अपनें दोस्तों पर चिल्ला रहा था…और कह रहा था.."साल्ले मना किया था तुझे न….अभी दिल्ली वाली लड़की के साथ बलात्कार हुआ है और सुना है मर भी गई है वो…कुछ दिन में सब शान्त हो जावेगा साल्ले तब तक के लिेए शरीफ बन जा बेटा आयी बात समझ में….और ये पुलिस भोंसड़ी के ना अप्पन का पहले कुछ उखाड़ी है ना ही आज उखाड़ती…अगर लड़की वाला बलात्कार का मामला पूरे देशवा में ना फैला होता..ये पुलिस वाले साले खुद रोज लड़कियां छेड़ते हैं और भोंसड़ी के आज हमीं को दौड़ाये हैं"….

घंटे भर इंतजार के बाद ट्रेन आयी...मैं ट्रेन में बैठ गई…ट्रेन में अधिकतर यात्रियों के बीच यही चर्चो चल रही थी….दिल्ली में लड़की के साथ बलात्कार हुआ..फिर वह मर गई….हर तरफ हर जगह बलात्कार वाली बातें सुनकर ऐसा लग रहा था..कि लोग कितने चिंतित हैं…मानों इस बलात्कार के बाद लोग क्षण भर में जागरुक हो गए हों…और ऐसी घटनाएं आगे अब कभी ना होंगी...

भदोही स्टेशन पर ट्रेन रुकी काफी...यात्री उतर चुके थे…मैं उस बोगी में अकेली लड़की बची थी…बाकी  की कुछ बुजुर्ग महिलाएं थी…..बाकी के 6-7 अंकल-दादा टाईप के लोग बैठे थे…उनके बीच एक साधु बैठा था..जो जयपुर का रहनें वाला था…..ट्रेन थोड़ी खाली हुई तो इन लोगों की बतकही थोड़ी जोर की शुरु हुई…. 
 उनमें से एक आदमी नें कहा…दिल्ली बस में लड़की के साथ जो बलात्कार हुआ उसमें लड़की की गलती थी…ब्वायफ्रेंड को लेकर आधी रात को घूम रही थी…और इससे भी ज्यादा गलती इनके मां-बाप की है…चुपचाप अपनें पास रख कर पढ़ाना चाहिए था तो भेज दिए बाहर पढ़नें को….अब भुगतें…लड़की जान से हाथ धोकर गई…..दूसरे महाशय बोले हमको तो लग रहा है..सबसे ज्यादा गलती उस बस के ड्राइवर की है…जब लड़की के साथ बलात्कार हो रहा था तो उसे बस को किसी थाने पर ले जाकर खड़ा कर  देना चाहिए था….फिर कोई टप से बीच में बोला…अरे लड़किया के 100 नंबर पर फोन करे के चाहत रहल ह…तुरंत पुलिस आवत….लड़की खुद् सौंप दी अपनें को…….कपड़ा भी तो ये लोग उत्तेजक ही पहनती हैं…जब एक बार गाना निकला था…चोली के पीछे क्या है…तो उस समय बनारस में इस गानें को लेकर कितना बवाल हुआ था…लेकिन अब की लड़कियां वही कपड़े खुद पहन रहीं हैं…..अभी उनके बीच बैठे साधु का बोलना बाकी रह गया था….बोले..रावण भी सीता के चुरा के ले गयल रहल…स्त्री के साथ छेड़छाड़ की परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है..ये बिल्कुल बंद नहीं होगी…उस बाबा जी की बातें सुनने में ऐसी लग रहीं थी…मानो बाबा कोई बात नहीं कह रहें हैं..बल्कि कोई प्रतिज्ञा कर रहें हैं कि छेड़खानी कभी बन्द नहीं करेंगे…
मन उकता गया था...उनकी ऐसी बातें सुनकर.....ट्रेन बनारस स्टेशन पर आ गई थी....और मैं उतर गई...