Wednesday, 2 January 2019

तेरा जाना....

पिछले साल इसी महीने में ढेर सारा सामान लेकर शिफ्ट हुई थी वो। इस कमरे में मेरे साथ उसका पहला दिन था। हम दोनों ने एक दूसरे से सिर्फ नाम पूछा था। मैं नाम से आगे भी कुछ पूछना चाहती थी लेकिन वह बताने के मूड में नहीं थी। सारा सामान एक कोने में रखकर उसने सबसे पहले खीर बनाया और बैठकर खाने लगी। थोड़ा अजीब लगा..जाने क्यों...अब तक रुममेट के साथ शेयर करके खाने की आदत थी, शायद इसलिए। इसके बाद हम दोनों के बीच कोई बात नहीं हुई..अगले तीन महीनों तक। वह बात नहीं करना चाहती थी...बोलने पर भी नहीं बोलती..पूछने पर भी नहीं बताती और शायद कहने पर भी नहीं सुनती थी। वजह नहीं पता..लेकिन अजीब था सबकुछ...बहुत अजीब...विचित्र सा। फिर धीरे धीरे ऐसे ही रहने की आदत पड़ गई। एक कमरे में दो लोग..लेकिन मरे हुए की तरह..कोई बातचीत नहीं...कोई मुस्कुराहट नहीं..एक दूसरे की तरफ देखना भी नहीं। लेकिन धीरे धीरे मरे हुए की तरह रहना भी अच्छा लगने लगा, उसे भी, मुझे भी।
वह कमरे के अंदर खिड़की और दरवाजे बंद करके हवन कर देती( पूरी और चिप्स तलकर खाने की शौकीन थी) और मुझे बाहर निकलना पड़ता...समझदार इतनी ज्यादा थी कि किसी चीज की उम्मीद नहीं रखी जा सकती थी। फिर एक दिन अचानक बिना बताए जाने कहां चली गई...शायद घर..कुछ लोगों को ऐसा ही बतायी थी।

उसका जाना जाने क्यों अच्छा लगा। लेकिन18 दिन बाद जब लौटकर आयी तो वो, वो नहीं थी। अब वो वो थी जो शायद पहले रही होगी। बड़ा सा ट्रॉली बैग कमरे में लेकर आते ही मैंने उसे 'हाय' बोला...उसने थोड़ी ज्यादा मेहनत करके मुझसे पूछा 'कैसी हो'। इसके बाद बातचीत शुरू हो गई। मैडम ने जिस खुशी में उस दिन से मुझसे बात करनी शुरू की थी उसे शायद 'सपनों का राजकुमार' मिलना कहते हैं। शादी लग गई थी उसकी और 'अपने उनके' साथ कहीं घूमकर लौटी थी। फ्रेश होने के बाद उनकी फोटो दिखायी और बोली देखो कैसा है मेरा हीरो..उसका हीरो, हीरो टाइप ही था। लेकिन बात न करने की जो वजह थी..वो नहीं पता चल पायी और वो बात भी खत्म हो गई।
इसके बात मैंने सिर्फ उसको ही नहीं झेला...उसके 'उनको' भी झेला...'इनकी' और 'उनकी' बातों को भी झेला..दोनों के झगड़े को भी झेला और प्यार को भी। इतना ही नहीं कमरे में शादीशुदा लड़कियों ने उसको जो सुहागरात, ननद को खुश करने की टिप्स, सास को हैंडल करने की टिप्स, पति से चटर पटर खाने की फरमाइश करने की टिप्स, थोक मार्केट से बिंदी, चूड़ी,टेडीवियर और जाने क्या क्या खरीदने की टिप्स, आटे में बेसन भरकर पूरी बनाने की टिप्स और सुबह उठकर मां दुर्गा टाइप श्रृंगार करने की टिप्स जैसी जाने कितनी नसीहतें झेलीं। शादी लगने के बाद वह दस महीनों तक वह बस ऐसा वैसा करने की टिप्स बटोरती रही और शादी का दिन नजदीक आ गया।
आज बेड खाली है उसका..आलमारी खाली है..रैक खाली है...कुर्सी और टेबल खाली है। कमरे में खालीपन है, सूनापन है...बार बार नजरें कोने में उसकी बेड की तरफ जा रही हैं। बेड तो है..वो नहीं है।

No comments: