Sunday, 2 April 2017

ओह्ह चांद.....



-सुनो..कहां हो अभी
रूम में हूं..क्यों क्या हुआ?
-कमरे की खिड़की खोलो..या फिर छत पे आकर देखो चांद निकला है
रोज निकलता है..नया क्या है इसमें?
-नहीं..आज कुछ खास है..तुम देखो..जब भी चांद निकले तुम देख लिया करो
हां बाबा..मुझे याद रहता है...मैं चांद नहीं देखूंगा तो तुम जान ले लोगी मेरी..वैसे तुम्हारे कहने से पहले ही मैंने देख लिया था।
-हां..अच्छा किया तुमने...जब भी चांद निकले देख लिया करो..क्यों कि मुझे पसंद है चांद देखना...तुम पास होते तो हम साथ बैठकर चांद देखते और बातें करते।
पगली हो तुम
-हां जो भी हूं...और मैं रहूं या ना रहूं...जब भी चांद निकले देख लेना
(वह छत पर बैठी हुई चाय की चुस्की लेते हुए यह सोच रही थी वह नहीं है तो चांद क्यों निकलता है)
Post a Comment